भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

चांद : एक / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अचपळै छोरै
चिगावण मिस
ऊपर उछाळियो सिक्योड़ो फलको

मिजळो आभो
बोच’र बैठग्यो

अबै पिलको मूंडो करियां
होठां माथै जीभ फेरतो
आंगणै ऊभो आभै कानी ताकै छोरो !