भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

चाकू की नोक पर / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वैसे उसके बसंत को
बसंत कहना गलत होगा
क्योंकि
उसने न तो
हरे-भरे गदराये वृक्ष देखे
न फूल चखे
न सूंघे फूल
न चिड़िया चहचहायीं
न फूटी कोई गंध ही वहां

लेकिन श्रीमान !
वर्श के एक खास ॠतु का नाम
बसंत है
अतः हे सभ्यजनों !
(आपके लिए यह संबोधन मेरा है, उसका नहीं)
बसंत की बीस खाइयां फांदकर
इस बाग को
ठहरिए
इस बाग की जगह
जंगल कहना अधिक उपयुक्त होगा
(वह तो जंगल ही कहता है इसे)
हां तो इस जंगल को
समझने लायक हुआ है
जब से वह
तब से
यह हर बात का फैसला
चाकू की नोक पर चाहता है !