भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

चारों तरफ़ जो आज यहां हो रहा है / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चारों तरफ़ जो आज यहां हो रहा है।
उसे देख हर किसी का दिल रो रहा है!

जो भी आगे आया बेनक़ाब करने,
अगले ही पल यहां से गुम हो रहा है!

वे मशगूल हैं अखबारी आंकड़ों में,
बच्चा कब से दूध के लिए रो रहा है!

पहली परवाज़, नीचे गिर रहे परिंदे,
मौसम इस हद मेहरबान हो रहा है!

आज नहीं तो कल मिटेगा दौरे-जुल्म,
जिस किसी ने कहा हो, गजल-गो रहा है!