भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चार मुक्तक / सूरज राय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1.
चाक अरमानों को, दिल को पारा-पारा कर दिया
फिर यकीं की झील के पानी को ख़ारा कर दिया ।
कँपकँपाती शाम ने, कल माँग ली चादर मेरी
और जाते-जाते, जाड़े को इशारा कर दिया ।।

2.
 
प्यार पे मैं मरूँ और प्यार पे तुम भी मरो
फूल-सा मैं भी झरूँ और फूल-से तुम भी झरो ।
इक वसीयत नस्ल-ए-कल के नाम लिख एहसास की
दस्तख़त मैं भी करूँ और दस्तख़त तुम भी करो ।।

3.

गले मिलने को तो कहता है पर, सर काट देता है
मुहब्बत और अमन का हर कबूतर काट देता है ।
अगर हिंदू के ‘ह’ और मुस्लिम से ‘म’ से हैं मुकम्मल ‘हम’
तो फिर है कौन जो अक्षर से अक्षर काट देता है ।।
 
4.

सुबह-ए-उल्फत, सुकूँ की शाम से बतिया रहा
सब हैं चुप ख़ुद से भी, वो आवाम से बतिया रहा ।
मंदिर-ओ-मस्जिद के मसले पर जहीनों में बहस
और इक पाग़ल रहीम-ओ-राम से बतिया रहा ।।