भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चालण रो वर दे माँ मार्ग कांटा सूं भरपूर / तन सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चालण रो वर दे माँ मार्ग कांटा सूं भरपूर ।।

पग-पग कांटा जग में दिसै ,कांटा में कई फूल निपजै ।
कांटा री दुनियाँ में माता क्यूँ जाऊँ मै भूल ।। चालण....

हालण लाग्यो जळ थळ सारो ,झोंका दे बायरियो प्यारो ।
ऊँचा महल उबासी लेवे झुंपी झेरां पूर ।। चालण.....

आज सांच रो मारग दिसै ,वीर सुरमा म्हनै उडीकै ।
परभाते री नींदडली हमें मत कर तू मजबूर ।। चालण.....

एक जीव है अंग हजारों ,छोट मोट है भैद कठे रो ।
घर रै गोधम गजनी रै कांटे ,पीथल खोयो नूर ।। चालण.....

सतियाँ सत् कांटा बळ राख्यो ,कांटा चल राणै प्रण राख्यो ।
हूँ तो माता करणों चाऊ , कांटा रो मदचूर ।। चालण.....

सुख करतां दुःख आवै आण दे ,जगहित शिव ने जहर पियणदे ।
धर्म प्रीत रा गीत गावतां आवण दे तिरशूल ।। चालण.....
१७ मार्च १९५०, बाड़मेर