भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चालूं कित्ती’क दूर और कठै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चालूं कित्ती’क दूर और कठै
अंत बिहूणै पथ रो छोर कठै

उजास खातर भटकै मन म्हारो
आं काळी रातां री भोर कठै

झटकै सूं तोड़ नांखै स्सै जाळ
बताओ तो सरी बो जोर कठै

थारी-म्हारी न्यारी सांसां नै
बांधलै सागै बा डोर कठै

अठै जुगां सूं छांटां नै तरसां
कांई करां जे बरसै लोर बठै