भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाल हम सब से चल गया सूरज / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाल हम सब से चल गया सूरज
कितना आगे निकल गया सूरज

जलते जलते पिघल भी सकता है
जब सुना तो दहल गया सूरज

रोज़ की तरह कल भी आऊंगा
आज भी सब को छल गया सूरज

सर छुपाने को जब जगह न मिली
कितने चेहरों में ढल गया सूरज

एक बदली जो पास से गुज़री
रंग कितने बदल गया सूरज

तह करो ख्वाब शब समेटो अब
फिर सफ़र पर निकल गया सूरज

डर गया शहर के मकानों से
वक़्त से पहले ढल गया सूरज