भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाल / बाल गंगाधर 'बागी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चिरागे मोहब्बत हर दिल में नहीं जलता
जिनमें कभी किसी के लिए प्यार नहीं पलता
हम चिरागे मोहब्बत हर दिल में जलाते हैं
मगर उनके दिल में प्यार नहीं पलता
हजारों दिये बुझाये तुम्हें फिर भी गम नहीं
हर एक दिल का दर्द, तुझ सा नहीं होता
घर मेरा जला के, वे जश्न मना रहे हैं
किसी का वक्त कभी भी इक सा नहीं होता
अपने अंदर कभी झांक के इंसान तलाशो
दिल किसी का पूरा बुरा नहीं होता