भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाहे सिर कलम कर दीजिए / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाहे सिर कलम कर दीजिए।
नहीं होंगे अब चुप लीजिये।

हमने तो सिर्फ सच कहा था,
हम पे हो रहा शक लीजिये!

जिनके बूते दम भरें आप,
उनके चेहरे फक लीजिये!

खुश हो रहे बहुत दूर निकल,
यहां भी हाजिर हम लीजिए!

चारों ओर फैलेगी आग,
शोलों को हवा अब दीजिये।