भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाहो कि पी के पग तले अपना वतन करो / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाहो कि पी के पग तले अपना वतन करो
अव्‍वल अपस कूँ अजज़ में नक्‍श़-ए-चरन करो

हे गुलरुख़ाँ कूँ ज़ौक़-ए-तमाशा-ए-आशिक़ाँ
दाग़ाँ सिती दिलाँ कूँ उसके चमन करो

साबित हो आशिक़ाँ में जला जो पतंग वार
तार-ए-निगाह-ए-शम्‍अ सूँ उसका कफ़न करो

गर आरज़ू है दिल में हम आगोशिए-सनम
अँसुआँ सूँ अपने सेज जर फ़र्श-ए-चमन करो

चाहो कि हो 'वली' के नमन जग में दूरबीं
अँखियाँ में सुरमा पीव की ख़ाक-ए-चरन करो