भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चिट्ठियाँ भिजवा रहा है गाँव / माहेश्वर तिवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चिट्ठियाँ भिजवा रहा है गाँव
अब घर लौट आओ ।

थरथराती गन्ध
पहले बौर की
कहने लगी है
याद माँ के हाथ
पहले कौर की
कहने लगी है

थक चुके होंगे सफ़र में पाँव
अब घर लौट आओ ।