भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चिड़िया से कहा लड़की ने / रवीन्द्र दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चिड़िया से कहा लड़की ने
पंख दोगी मुझे !
उड़ना चाहती हूँ मैं भी
खुले आकाश में
चिड़िया ने कहा
क्यों नहीं , ये लो मेरे पंख
घूम आओ अनंत आकाश में
सकपका गयी लड़की
बोली- नहीं, नहीं ,
अभी नहीं ले सकती मैं पंख ,
मम्मी डाटेंगी
मैं ठीक हूँ ऐसे ही
फिर भी प्रार्थना करुँगी भगवान् से
अगले जन्म में
पंखों वाली चिड़िया बना दे मुझे!