भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चितवौ जी मोरी ओर / मीराबाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तनक हरि चितवौ जी मोरी ओर।
हम चितवत तुम चितवत नाहीं

मन के बड़े कठोर।

मेरे आसा चितनि तुम्हरी

और न दूजी ठौर।

तुमसे हमकूँ एक हो जी

हम-सी लाख करोर।।

कब की ठाड़ी अरज करत हूँ

अरज करत भै भोर।

मीरा के प्रभु हरि अबिनासी

देस्यूँ प्राण अकोर।।