भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चिरंतन वसंत / माहेश्वर तिवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़त्म नहीं होगा
वसंत का आना यह
हर बार

ख़त्म नहीं होगा
पलाश के फूलों वाला रंग
पतझारों को रोंद
विहसने-गाने का यह ढंग

ख़त्म नहीं होगा
मनुष्य से
फूलों का व्यवहार

आम्र-बौर से
संग हवा के उड़ने वाली गंध
होठों जड़ी ऋचाओं को
कर देगी फिर निर्बंध

ख़त्म न होंगे
बोल, परन टुकड़े, टप्पे,
ततकार

बारूदों पर नए
सृजन की भाषा का संभार
बाहर-भीतर घटित
हो रहा रिश्तों का त्यौहार

बना रहेगा
रचते रहने का
जीवित संसार