भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चिरइयाँ बोलन लगीं / कन्नौजी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: आत्मप्रकाश शुक्ल

पिया जागउ भई भिनुसार
चिरइयाँ बोलन लगीं