भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चिरेर मुटु यो तिमीले / म. वी. वि. शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


चिरेर मुटु यो तिमीले के पायौ
कित मेरो भन्नु पर्छ के आई हेरिदियौ
चिरेर मुटु यो तिमीले के पायौ

नचुंडी हाल्यो नजोडी हाल्यो
यसरी नपार विचमा विन्ति आईदेउ
चिरेर मुटु यो तिमीले के पायौ

बुझने कहिले सकिन अहिले
कस्तो यो चोट यस्तो
विन्तीछ सुनी देउ
चिरेर मुटु यो तिमले के पायौ