भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चीख़ उठता है शहर रात गए / विजय किशोर मानव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चीख़ उठता है शहर रात गए
ऐसे ढहते हैं कहर रात गए

आएगा क्या सुबह ख़बर बनकर
सोच के लगता है डर रात गए

ख़ून की इस नदी की आंख बचा
तट से मिलती है लहर रात गए

आंख खिड़की से लगी रहती है
घूमा करती है नज़र रात गए

दिन थकानों में डुबोया करते
नींद आती है मगर रात गए

टूटे सपनों में समाई यादें
काटने लगता है घर रात गए