भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चुप / विवेक चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी रोज़
नदी के निर्जन घाट पर
चुप...बैठ रहेंगे साथी

उस शाम
तुम नहीं कहोगी
...शांत है ये जल
मैं नहीं कहूँगा
...अच्छा है इस शाम यहाँ होना

नदी की धार को
पैरों से छूता
एक पंछी
हू तू तू...बोलता
उड़ जाएगा
हम.. कुछ भी न कहेंगे

बहुत सा जो खूबसूरत
मिट रहा है
इस दुनिया से

चुप...उनमें से एक है साथी।