भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

चुल्लू की आत्मकथा / लीलाधर जगूड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं न झील न ताल न तलैया
न बादल न समुद्र
मैं यहाँ फँसा हूँ इस गढ़ैया में
चुल्‍लू भर आत्‍मा लिये
सड़क के बीचों-बीच

मुझ में भी झलकता है आसमान
चमकते हैं सूर्य सितारे चाँद
दिखते हैं चील कौवे तोते और तीतर
मुझे भी हिला देती है हवा

मुझमें भी पड़कर
सड़ सकती है
फूल पत्तों सहित हरियाली की आत्‍मा

रोज कम होता
मेरी गँदली आत्‍मा का पानी
बदल रहा है शरीर में
चुपचाप
भाप बनकर
बाहर निकल रहा हूँ मैं।