भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चेतावनियाँ / निकानोर पार्रा / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब आग लगती है
लिफ़्ट का इस्तेमाल मत करो
सीढ़ियों का इस्तेमाल करो
अगर दूसरा निर्देश न दिया जाए ।

सिगरेट मत पीओ,
गन्दगी मत फैलाओ,
हगो मत,
रेडियो मत चलाओ,
अगर दूसरा निर्देश न दिया जाए ।

हर बार,
 इस्तेमाल के बाद
टॉयलेट का फ़्लश चलाओ,
मगर जब ट्रेन स्टेशन पर हो
तब नहीं ।
 
अगले मुसाफ़िर के बारे में सोचो
ईसाई सैनिकों ! बढ़े चलो !
दुनिया के मज़दूरों एक हो  !

हमारे पास
खोने को कुछ भी नहीं
सिर्फ़ हमारी ज़िन्दगी
पिता और पुत्र
और पाक फ़रिश्ते की जय हो
अगर दूसरा निर्देश न दिया जाए ।

हाँ, वैसे
हम भी इन सच्चाइयों को
मानी हुई बात मानते हैं
कि सारे लोगों की सृष्टि हुई है
 
कि उन्हें सौंपे गये हैं
उनके स्रष्टा द्वारा
कुछ अलँघ्यनीय अधिकार

इनमें शामिल हैं : जीने का
आज़ादी का
और ख़ुश होने की कोशिश
करने का अधिकार

और सबसे बड़ी बात
कि दो जमा दो चार होता है
अगर दूसरा निर्देश न दिया जाए ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य