भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चेतावनी (ग़ज़ल) / अछूतानन्दजी 'हरिहर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पुरखे हमारे थे बादशाह, तुम्हें याद हों कि न याद हो।
अब हिन्द में हम हैं तबाह, तुम्हें याद हो कि न याद हो॥

इतिहास में जो नामवर, थे वीर पराक्रमी धनुर्धर।
आये थे आर्य यहाँ नये, हमको हजम जो कर गये।

छल-बल से वे मालिक भये, तुम्हें याद हो कि न याद हो॥
यदि खून में कुछ जोश हो, ओ बेहोश कौमों, जो होश हो।

तुम क्यों पड़े खामोश हो, तुम्हें याद हो कि न याद हो॥
अब भी हमारी राय लो, सभी आदि हिन्दू बनाय लो।

इतिहास-ज्ञान जगाय लो, तुम्हें याद हो कि न याद हो॥
 'हरिहर' समय अनुकूल है, अब भी न चेतो, भूल है।
गहरी तुम्हारी मूल है, तुम्हें याद हो कि न याद हो।