भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चेतावनी / लैंग्स्टन ह्यूज़ / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काले हब्शी,
प्यारे और हुक़्मपरस्त,
शर्मीले, दब्बू और भले :

उस दिन से सावधान
जब उनका दिमाग बदल जाएगा !

हवा
कपास की खेतों में बहती
मदमाती मस्त हवा :

उस घड़ी से सावधान
जब वह पेड़ों को उखाड़ फेंकेगी !

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य