भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चेत अरे चेत भाई रेताराम / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चेत अरे चेत भाई रेताराम
कूड़ो स्सो हेत भाई रेताराम

कैड़ा है कांई, तूं ई ओळखलै
गाभा है सेत भाई रेताराम

सभावां में हुवै अमोली बिरखा
सूका स्सै खेत भाई रेताराम

आंसुवां री एफ डी किण किण रै नांव
गिण थारै समेत भाई रेताराम

तपती रेत री ताकत अंवेर तूं
थारो धन रेत भाई रेताराम