भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चे-ग्वेरा की अन्तिम यात्रा / विसेण्टे अलेयखान्द्रे / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौन
हिलाता है
मरु
छायाओं को ?

हवाएँ धधकती हैं ।
चान्द
लाल-भभूका,
प्रसिद्ध
रात
प्रकाशहीन अब भी
अपलक दृष्टि
अन्तिम है ।
सुन्दर हैं आँखें,
चेहरा ।

निद्रामग्न
वह बहता है
निर्मल से होकर
ले जाता हुआ विस्तार को
कितना विस्तृत और सुदीर्घ...!

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र