भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चैत्र (हाइकु) / सुधा गुप्ता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(चैत्र )
चैत्र जो आया
मटकी भर नशा
महुआ लाया

( बारात)
बजे नगाड़े
राजा ‘इन्दर आए’
लेके बारात’
 
(पंछी )
धूप-जल में
आँखें मूँद नहाते
ठिठुरे पंछी

( भादौ के मेघ )
भादौ के मेघ
बिजली के फूलों की
माला पहने

( पलाश )
लाल गुलाल
पूरी देह पर लगा
हँसे पलाश