भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चैन दुनिया में ज़मीं से ता फ़लक दम भर नहीं / इमाम बख़्श 'नासिख'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चैन दुनिया में ज़मीं से ता फ़लक दम भर नहीं
दाग़ हैं ये गुल नहीं नासूर हैं अख़्तर नहीं

सर रहे या जाए कफछ हम मय-कशों को डर नहीं
कौन सा मीना-ए-मय ऐ मोहतसिब बे-सर नहीं

वो बुत-ए-शीरीं-अदा करता है मुझ को संगसार
ये शकर-पारे बरसते हैं जुनूँ पत्थर नहीं

हो रहा है एक आलम तेरे अबरू पर निसार
कौन गर्दन है जहाँ में जो तह-ए-ख़ंजर नहीं

दम निकलने पर जो आता है नहीं रूकता है फिर
देख लो क़स्र-ए-हबाब ऐ अहल-ए-ग़फ़लत दर नहीं

आदमी तो क्या वो कहता है निशान-ए-पा से भी
क्यूँ पड़ा है मेरे कूचे में तिरा क्या घर नहीं

ऐ तसव्वुर क्यूँ बुतों को जमा करता है यहाँ
दिल मिरा काबा है कुछ बुत-ख़ाना-ए-आज़र नहीं

शिकवा जो बे-नौकरी का करते हैं नादान हैं
आप आक़ा है किसी का जो कोई नौकर नहीं

है ख़राबात-ए-जहाँ में भी वो साक़ी से नुफ़ूर
जो कि ऐ ‘नासिख़’ ग़ुलाम-साक़ी-ए-कौसर नहीं