भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छत के ऊपर छाया गहन शान्त नीला अम्बर / पॉल वेरलेन / मदन पाल सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छत के ऊपर छाया गहन शान्त नीला अम्बर
एक वृक्ष अपने पर्ण हिलाए
इस छत पर

और देखते, घण्टियाँ आकाश में बजतीं धीरे-धीरे
एक पँछी वृक्ष पर गाता
अपना दर्द बिखेरे

मेरे प्रभु ! यहाँ जीवन है शान्त सरल
एक हल्का -सा कोलाहल
शहर से आता चलकर

तुमने क्या किया यहाँ, विलाप नहीं रुकता
बताओ ! तुमने क्या किया, यहाँ
अपने यौवन का?

मूल फ़्रांसीसी से अनुवाद : अनिल जनविजय