भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छलक जाती है कविता / गोविन्द कुमार 'गुंजन'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहुत कम
हाथों में आती है
ज्य़ादातर
छलक जाती है कविता

जैसे
कुए पर
फूटी बाल्टी से
खींचता हूँ पानी,

बाल्टी
जिसमें छेद ही छेद हैं
डोर
जो बहुत छोटी है

होठों को भिगोती
मनवासी प्यासी को सहलाती जाती है

कविता
बहुत कम हाथों में आती है
ज्य़ादातर छलक जाती है