भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छह हाइकु / कोबायाशी इस्सा / सौरभ राय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मत मारो!
कहती मक्खी
हाथ रगड़ कर।

मूली खींचते आदमी ने
मुझे रास्ता दिखाया
मूली से।

चिड़िया चीख़ी
जैसे पहली बार देखा
पहाड़।

मेंढक ! मानो
लेगा निगल
बादल।

कौआ चलता
जैसे जोत रहा
खेत।

पहाड़ी मन्दिर –
बर्फ़ के नीचे दबी
एक घण्टी।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सौरभ राय