भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

छाती माथै ऐ धोरा बाबा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छाती माथै ऐ धोरा बाबा
रैवां अबै किंयां सोरा बाबा

एक दिन री तो आ बात कोनी
नित रा ऐ लंघण दोरा बाबा

पोथां रो मूळ है आखर ढाई
आं बिना मन-कागद कोरा बाबा

सांस-सांस रो सगपण हुवै किंयां
अजै अठै काळा-गोरा बाबा

सगळा ठाठ अठै ई रह जासी
कुण ले जासी ऐ बोरा बाबा