भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छिलके के भीतर / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे दर्द के भीतर दर्द है
जैसे छिलके के भीतर कोई फल

मेरी देह जैसे पीड़ा से बेचैन कपड़े
जिन्हें मैं बदल भी नहीं सकती

उन्होंने कहा अभी... और मैं आ गई
उन्होंने कहा यहाँ...और मैं पहुँच गई

मैंने अपने दिल के खिलौने तोड़ दिए

जैसे मैं एक तस्वीर के भीतर यात्रा कर रही हूँ
तुम जिसकी तरफ़ देख रहे हो
— तुम या कोई और —

ऊपर तक लदे हुए हैं मेरे हाथ
जाने क्यूँ लाद कर लाई इतना वजन यहाँ

लो देखो
इस मुल्क को जहाँ लोगों के दिल
उनके सीनों से बाहर निकाल दिए गए थे

आँसू निकल पड़े
अतीत बह गया था ।