भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

छुपम छुपाई / बोधिसत्व

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारी पीठ की ओट में छिप जाऊँ
बहुत छाया है यहाँ

थक गया हूँ
जागते-जागते
जहाँ तहाँ भागते-भागते
तुम कहो तो तुम्हारी पीठ की ओट में
छिप जाऊँ

तुम सुनती हो पर कोई उत्तर नहीं देती
यह अबोला कब तक चलेगा

कहो तो
तुम्हारे उलझे बालों में अँगुली की कंघी घुमाऊँ
तुम्हें लोरी सुनाऊँ
तुम्हारी अँगुलियाँ पटकाऊँ
भर्राई आवाज में कुछ गाऊँ
तुम्हें अदरक की चाय पिलाऊँ
फिर तुम्हारी पीठ की ओट में छिप जाऊँ

तुम बोलती नहीं कुछ भी

ठीक है मैं जाता हूँ
दूर तक जाना है
और लौट कर फिर आना है
तुम्हारी ओट में छिपने के लिए।