भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छूटलै लहरिया न हे / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

शीतल मैया अइली- गरमी बूझाइली।
भगता करै छै अरजिया हे।
लहर पटोर मैया पहरी जब लेलकै
भगता के छूटलै लहरिया हे।
मालत मैया आइली गरमी बूझाइली।
भगता करै छै अरजिया हे।
लहर पटोर मैया पहरी जब लेलकै
भगता के छूटलै लहरिया हे।
धनसर मैया आइली गरमी बूझाइली।
भगता करै छै अरजिया हे।
लहर पटोर मैया पहरी जब लेलकै
भगता के छूटलै लहरिया हे।
कालि मैया आइली गरमी बूझाइली।
भगता करै छै अरजिया हे।
लहर पटोर मैया पहरी जब लेलकै
भगता के छूटलै लहरिया हे।
सभ्भे मैया आइली गरमी बूझाइली।
भगता करै छै अरजिया हे।
लहर पटोर मैया पहरी जब लेलकै
भगता के छूटलै लहरिया हे।