भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

छेकड़ कैवणो ई पड़ियो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओळभा देवती आई आंधी
आछै-आछां रा
माजना भांडिया
जडां समेत उखाड़
    चित नाख्या
आ देख
रहीज्यो कोनी
    दूब सूं
छेकड़ कैवणो ई पड़ियो-
कांई करै तो कर लै खांगी
हे देख, आ ऊभी म्हैं ।