भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छोड़ आए हम अजानी घाटियों में / माहेश्वर तिवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छोड़ आए हम अजानी
घाटियों में
प्यार की शीतल हिमानी छाँह !

हंसी के झरने,
नदी की गति,
वनस्पति का
हरापन
ढूँढ़ता है फिर
शहर-दर-शहर
यह भटका हुआ मन

छोड़ आए हम अजानी
घाटियों में
धार की चँचल सयानी छाँह !

ऋचाओं से गूँजती
अन्तर्कथाएँ
डबडबाई आस्तिक ध्वनियाँ,
कहाँ ले जाएँ
चिटकते हुए मनके
सर्प के फन में
पड़ी मणियाँ

छोड़ आए हम पुरानी
घाटियों में
काँपते-से पल, विदा की बाँह !