भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जंगी तराना / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 

दिलावरान-ए- तेज़ दम, बढ़े चलो, बढ़े चलो
बहादुरान-ए- मोहतरम, बढ़े चलो, बढ़े चलो

ये दुश्मनों के मोर्चे फ़क़त हैं ढेर ख़ाक़ के
तुम्हारे सामने जमे,कहाँ किसी के हौसले ?

नहीं हो तुम किसी से कम, बढ़े चलो, बढ़े चलो

सितम के तमतराक को बढ़ा के हाथ छीन लो
है फ़तह सामने चलो,उठो,उठो, बढ़ो,बढ़ो

यह जामे-जम, वोह तख़्ते-जम, बढ़े चलो, बढ़े चलो