भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

जइसन परजा अउसन राजा के भेष हे / सिलसिला / रणजीत दुधु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जइसन परजा अउसन राजा के भेष हे
जइसन नागरिक अउसन दुनिया में देश हे
जहाँ सबसे बढ़ल धन खाली ईमान हे
उहे दुनियाँ में देश हमर हिंदुस्तान हे
जहाँ भुखलो पेट में न´ कोय कलेश हे
जइसन परजा अउसन राजा के भेष हे

राम कृष्ण गाँधी से जानल हम जा ही
सत्य अहिंसा ही में हमनीन के गोवाही
जहाँ भिखारी से हारल सिकंदर नरेश हे
जइसन परजा अउसन राजा के भेष हे

बढ़ियाँ बनके देखावऽ इहे में हो पानी
सोवर्णांक्षर में लिखइतो तोहर कहानी
पुजनीये बनऽ अउसी जइसे गणेश हे
जइसन परजा अउसन राजा के भेष हे