भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जठै स्सौ कीं थांरो ई काळी रात रै खिलाफ / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जठै स्सौ कीं थांरो ई काळी रात रै खिलाफ
एक दीवो म्हारो ई काळी रात रै खिलाफ

गोड़ै घड़ राई रो पहाड़ बणावै जमानो
एक दीवो म्हारो ई काळी बात रै खिलाफ

घर चिणावतां ई बुलडोजर दडूकै गळी में
एक दीवो म्हारो ई काळी लात रै खिलाफ

मुळकै, मिलै गळै अर होळै-सी-क बाढ नांखै
एक दीवो म्हारो ई काळी बाथ रै खिलाफ

भींतां सूं भचीड़ खा-खा अचेत होगी सांसां
एक दीवो म्हारो ई काळी छात रै खिलाफ