भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जड़ें / स्नेहमयी चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अन्दर कभी समुद्र-मंथन चलता है,

कभी ज्वालामुखी फूटता है,

कभी दावाग्नि लगती है,

कभी बर्फ़ जमती है,

कभी बरसात होती है,

कभी आंधी-तूफ़ान चलता है,

सब कुछ बाहर से क्यों नहीं गुज़र जाता?


जड़ें तो न हिलतीं

पेड़ की।