भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जड़ है मुझ में कुछ / वशिष्ठ कुमार झमन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिट्टी से खून मिल गया
खून से आँसु
और दिखती एक धुँधली
काया सी है
उस पेड़ की जड़ें
कसा है जो बरसों से
दुनियादारी के लतपथ हाथों में
उसके झंझावात के
प्रतिरोध में
झुक गयी है डालियाँ
बदल गया है रंग पत्तों का
अब फल फूल भी
कुछ और ही लगते हैं
हवा कुछ और मिलती है
पानी कुछ और मिलता है
पर याद है
पर याद है मुझे आज भी
मैं कौन हूँ
कहाँ से आया हूँ
ज्ञात है मुझे
रहा है मुझमें कुछ
अविच्छिन्न हमेशा से
जड़ है मुझमें कुछ
आज भी