भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जद-जद आवै थांरी हर हेमजी/ सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

28-03-1981: स्व. हेमाराम शर्मा खातर

जद-जद आवै थांरी हर हेमजी
नैणा आवै आंसू भर हेमजी

थां ताण ओप आवती उणियारै
म्हांनै गया अडोळा कर हेमजी

म्हां मेल राख्यो है घणै जतन सूं
थां दियो आंसू धन अमर हेमजी

मिलां-मुळकां-बतळावां पण कांई
थां बिन सूनो औ मन-घर हेमजी

घणी’ज आछी करी ओ आछोड़ा
छांनै-सी गया चोट कर हेमजी