भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जद-जद सोधै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरती धन री देवाळ
जुगां सूं चालै
आ कहाणी
चेतै राखै मेहतराणी

दिनूगै-दुपारै-सिंझ्या
कादो कुचरै
नित नळियां खंगाळै
सोनै-चांदी रो तिणखो लाधै कोई
कदास हटै करमां आडो आयोड़ो कांकरो

कियां ई कर परा
सांस रो गाडो घींसणियां सागै
किस्मत करै कुचामद
सवाई प्रीत साधै
जद-जद सोधै
नळियां में निरोध लाधै !