भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जद हरी करै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बूढै बैसाख
अर
बाळणजोगै जेठ री बाथा में
बळी-तपी
हरी हूवण री हूंस दाब्यां
         सूती धरती

अंग-अंग भीजै
    बा रीझै
मुळकै-गावै
जद हरी करै सावण !