भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जनम भूई के माटी / प्रमोद सोनवानी 'पुष्प'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मोर जनम भूई के माटी ला,
सरधा के दो फूल अरपन हे।
एखर सेवा रक्षा बर,
मोर जीव घलो समरपन हे।

जनम भूई हावे महतारी,
जनम भूई पहिचान रे।
जनम भूई के करबो पूजा,
जनम भूई महान रे।

जतन करो एखर गा भईया।
मोर माँथ पसीना तरपन हे।

ऐ माँटी म जनम लेवईया,
कतका भरे परे हें जी।
अउ एक नवां इतिहास रचईया,
मईनखे कहे गीस हे जी।

ऐ माँटी म गुरु के मूरत।
दाई -ददा के दरसन हे।