भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जन्नत जो मिले ला के मैख़ाने में रख देना / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 जन्नत जो मिले लाके मैख़ाने में रख देना|
क़ौसर मेरे छोटे से पैमाने में रख देना|
[क़ौसर= स्वर्ग में नदी]

मय्यत न मेरी जा के वीराने में रख देना,
पैमानों में दफ़ना के मैख़ाने में रख देना|
 
वो जिस से समझ जायें रुदाद मेरे ग़म की,
ऐसा भी कोई टुकरा अफ़साने में रख देना|
[रुदाद=कहानी; अफ़साना=बताना या कहना]
 
सज्दों पे ना देना मुझ को अर्बाब-ए-हरम ताने,
काबे का कोई पत्थर बुत-ख़ाने में रख देना|
[अर्बाब=दोस्त]
 
"सीमाब" ये क़ुद्रत का अदना सा करिश्मा है,
ख़ामोश सी इक बिजली परवाने में रख देना|
[अदना=छोटा; करिश्मा=चमत्कार]