भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जन-स्तुति / फ़्रेडरिक होल्डरलिन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या अब नहीं है मेरा मन पावन,
क्या नहीं हो गया है अधिक दीप्तिमान मेरा जीवन —
जबसे मैंने किया है प्रेम ?
तब क्यों तुमने दिया था मुझे इतना सम्मान
जब मैं कोरे शब्दों को जाया करता था
अभिमानी था
और था बहुत ही बेचैन ?
हाँ, लोग पसन्द करते हैं वह सब
जिसका बाज़ार में हो सके मूल्यांकन,
जो उस पर करता है अत्याचार
ग़ुलाम बस उसी का करता है पूजन ;
केवल वे, जो स्वयं दिव्य हैं,
करते हैं सदा
ईश्वरत्व में विश्वास ।