भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जबसे किसी से दर्द का रिश्ता नहीं रहा / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जबसे किसी से दर्द का रिश्ता नहीं रहा
जीना हमारा तबसे ही जीना नहीं रहा

तेरे ख़यालो-ख़्वाब ही रहते हैं आस-पास
तनहाई में भी मैं कभी तनहा नहीं रहा

आँसू बहे हैं इतने किसी के फ़िराक़ में
आँखों में इक भी वस्ल का सपना नहीं रहा

दरपेश आ रहे हैं वो हालात आजकल
अपनों कोअपनों पर ही भरोसा नहीं रहा

नफ़रत का ज़ह्र फैला है, लेकिन किसी में आज
मिल-बैठ सोचने का भी जज़्बा नहीं रहा

दारोमदारे-ज़िन्दगी जिसपर था, वो भी तो
जैसा समझते थे उसे, वैसा नहीं रहा

ये नस्ले-नौ है इतनी मुहज़्ज़ब कि इसमें आज
'दरवेश' गुफ़्तगू का सलीक़ा नहीं रहा