भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब कभी उन के तवज्जो में कमी पाई गई / साहिर लुधियानवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


जब कभी उन के तवज्जो में कमी पाई गई

अज़ सर-ए-नव-ए-दास्तान-ए-शौक़ दोहराई गई



बिक चुके जब तेरे लब फिर तुझ को क्या शिकवा अगर

जि़न्दगानी बादा-ओ-साग़र से बहलाई गई



ऐ ग़म-ए-दुनिया तुझे क्या इल्म तेरे वास्ते

किन बहानों से तिबयत राह पर लाई गई



हम करें तकर्-ए-वफ़ा अच्छा चलो यूं ही सही

और अगर तकर्-ए-वफ़ा से भी न रुस्वाई गई



कैसे कैसे चश्म-ओ-आरिज़ गदर्-ए-ग़म से बुझ गए

कैसे कैसे पैकरों की शान-ए-ज़ेबाई गई



दिल की धड़कन में तवज्ज़ुन आ चला है ख़ैर हो

मेरी नज़रे बझ गयीं या तेरी रानाई गई



उन का ग़म उन का तस्व्वुर उन के शिकवे अब कहाँ

अब तो ये बातें भी ऐ दिल हो गयीं आई गई