भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब चंद्र॰॰॰ / ज़्देन्येक वागनेर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब शाम को चंद्र आ रहा है
और सूर्य सोने जा रहा है
तब मेरा दिल तेरे होंठों से
चेरी का स्वाद लेना चाहता है।


और अब यही कविता चेक भाषा में

Když měsíc...



Když měsíc vychází
a slunce šlo už spát,
jahody ze rtů tvých
já toužím ochutnat.