भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब तट पर सब जम जाता है / बरीस सदअवस्कोय / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब तट पर सब जम जाता है,
और चाँद भी बढ़ता जाता है,
मैं घसियल मैदानों में घूमूँ,
जहाँ कोहरा मन भरमाता है ।

वहाँ सपन काँपते-छलकते हैं,
वहाँ भूत छवि से झलकते हैं,
वहाँ चाँदनी झर-झर झरती है,
उल्लुओं की चीख़ें बिखरती हैं ।

वहाँ घास भी सपने देखा करे,
और मेरे बिछोह-सी सर्र-सर्र करे,
वहाँ नज़र चाँद की, उल्लू की चीख़ें,
और रात भी थर-थर काँपा करे ।
 
1905

मूल रूसी से अनुवाद : अनिल जनविजय

लीजिए, अब यही कविता मूल रूसी भाषा में पढ़िए
         Борис Садовской
     Когда застынут берега...
 
Когда застынут берега
И месяц встанет величавый,
Иду в туманные луга,
Где никнут млеющие травы,
 
Где бродят трепетные сны,
Мелькают призрачные лики,
И там, в сиянии луны,
Внимаю сов ночные крики.
 
Понятны мне мечты лугов:
Они с моей тоскою схожи.
О взор луны! О крики сов!
О ночь исполненная дрожи!
 
1905